HealthHealth Tips

भुजंग आसन कैसे करे तथा इसके फायदे

आज इस आर्टिक्ल में हम आपको भुजंग आसन कैसे करे तथा इसके फायदे क्या क्या है इसके बारे में बताने जा रहे है। ये आसन लिए हमारे बहुत ही आवश्यक है। ये आसन हमें साँप के फन के आकार की तरह करना है। आसन करने से हमे बहुत लाभ होता है। भुजंग आसन साँप की मुद्रा मे किया जाता है।

भुजंग आसन कैसे करे तथा इसके फायदे

भुजंग आसन कैसे करे?

भुजंग आसन कैसे करे?

  • सबसे पहले एक साफ हवादार जगह का चयन करे।
  • उसके बाद दूसरे नंबर पर पेट के बल लेट जाना है तथा सांस को अंदर की और लेना है।
  • उसके बाद दोनों आंखो को बंद करना है।
  • फिर पैरों को सीधा व लम्बा फैला लेना है।
  • हथेलियों को कन्धों के नीचे जमीन पर रखना है।
  • अब अपने सिर को जमीन से लगाए।
  • हमे अपनी मांसपेशियों को शिथिल करना है।
  • फिर धीरे-धीरे सिर को व कन्धों को जमीन से ऊपर उठाना है।
  • सिर तथा कंधो को आसमान की तरफ करना है तथा अपने सिर को जितना पीछे की ओर ले जा सकें, उतना ले जाना है।
  • हाथों की सहायता के बिना कन्धों को केवल पीठ के सहारे ऊपरकी और उठाने का प्रयत्न करना है।
  • उसके बाद धीरे-धीरे पूरी पीठ को ऊपर की ओर तथा पीछे की ओर झुकाते हुए गोलाकार करते जाना है।
  • ये आसन करते समय हाथ सीधे होने चाहिए।
  • आसन का पीठ पर अधिक भार ना पड़ने पाएँ इस बात का हमे ध्यान रखना है।
  • आसन पूरे होते समय धीरे-धीरे सांस को बहार छोड़ना है।
  • ये आसन करने के बाद जितनी देर आसन किया है उतने समय आराम करना है।
  • हम इस आसन को पांच से छह बार कर सकते है।

भुजंग आसन करने के फायदे

  • इससे शरीर लचीला और फुर्तिला होता है।
  • इससे पेट की चर्बी कम होती है तथा मोटापा कम होता है।
  • इस आसान शरीर में रक्त संचार ठीक से होने लगता है।
  • ये आसन करने से हमारे अंदर ऑक्सीजन का संचार सही से होता है।
  • सुबह उठते ही करने से हमारा आलस दूर होता है।
  • मासिक धर्म मे जिन महिलाओं को अधिक दर्द होता है। उनको ये आसन करना चाहिए।
  • आसन करने से हाथों व पैरों का दर्द दूर होता है।
  • इससे हमारी रीढ़ की हड्डी का दर्द दूर होता है।
  • इससे पाचन क्रिया सही रहती है।
  • ये आसन करने से कब्ज दूर होती है।
  • जिन को दमे की शिकायत है उन के लिए ये आसन आवश्यक है।
  • ये आसन करने से तनाव कम होता है।
  • इस आसन को करने से हमारी छाती चौड़ी होती है।

भुजंग आसन करते समय सावधानियाँ

  • ये आसन करते समय सबसे पहले हवादार जगह होनी चाहिए।
  • रोगी को ये आसन नहीं करना चाहिए।
  • ये आसन मासिक धर्म के दौरान नहीं करना चाहिए।
  • गर्भवती को ये आसन नहीं करना है।
  • आसन करने से पहले हमे इसके बारे मे पूरी जानकारी होनी आवश्यक है।
  • अगर किसी की कमर मे दर्द रहता है तो उनको ये आसन नहीं करना चाहिए।
  • आसन हमेशा खाली पेट करना चाहिए।
  • आसन हमे अपनी क्षमता के अनुसार करना चाहिए।
  • अगर किसी की आंत मे किसी तरह का दर्द है तो आप ये आसन ना करे।

Final Words

आज इस आर्टिकल मे हमने आपको भुजंग आसन कैसे होता है इसके फायदों के बारे मे बताया इसको लेकर अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप नीचे कमेंट केआर सकते है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close