Article

बल्ब का आविष्कार किसने किया?

आज इस आर्टिकल में हम आपको बल्ब का आविष्कार किसने किया इसके बारे में जानकारी देंगे-

बल्ब जोकि एक रोशनी देने वाला उपकरण है और आज से कई सालो पहले बल्ब की जगह लोग मोमबत्ती का उपयोग किया करते थे, तथा उसमें रखरखाव ना होने के कारण आग लगने का डर बना रहता था. लेकिन अब ऐसा नहीं है क्योंकि पूरी दुनिया में बल्ब को सर्वश्रेष्ठ अविष्कार में से एक माना जाता है.
आज बल्ब की वजह से करोड़ों लोग राहत की जिंदगी जी रहे है, जब से थॉमस अल्वा एडिसन ने बल्ब का आविष्कार किया है, तब से मानो दुनिया में एक नए युग की शुरुआत हुई है.

बल्ब क्या है

बल्ब को हम तापदीप्त लैम्प या इन्कैंडिसेंट लैम्प भी कहते है। अब आपके मन सवाल आ रहा होगा इसे तापदीप्त लैंप क्यों कहते है , तापदीप्त लैंप इसे इसीलिए कहते है क्यूंकि ये तापदीप्त से प्रकश उत्पन करता है. गर्मी से उत्पन होने वाली उत्सर्जन को हम तापदीप्त कहते है. ये कांच का बना हुआ होता है जिसके अंदर एक बहुत पतला सा फिलामेंट होता है जब धारा फिलामेंट के अंदर से गुजरती है तब फिलामेंट गर्म हो कर प्रकाश उत्पन करती है.

बल्ब का आविष्कार किसने किया

बल्ब का आविष्कार थॉमस अल्वा एडिसन ने 14 अक्टूबर 1878 में किया था. एडिसन उस समय के एक जाने माने वैज्ञानिक थे. उन्होंने कार्बन फिलामेंट लाइन बल्ब का आविष्कार किया था, जोकि बिजली की टार को जोड़ने गर्म होकर बल्ब जलाने लगता था. इस आविष्कार को करने में उन्हें लगभग डेढ़ साल का समय लगा था और जब यह बल्ब आविष्कार पूरा होने के बाद जलाया गया तो 13 घंटे से भी ज्यादा बल्ब जला था.
उन्होंने बल्ब का तो आविष्कार किया ही था, लेकिन इसके अलावा 1091 प्रकार के छोटे-बड़े उपकरणों का आविष्कार किया. जैसे ग्रामोफोन, कार्बन टेलीफोन, एल्कलाइन स्टोरेज बैटरी आदि. इन सारे यंत्रो का एडिसन जी के नाम पर पेटेट बुक है.

“कार का आविष्कार कब हुआ और किसने किया”

एडिशन ने बल्ब को बनाने के लिए कई बार कोशिश की और नाकाम भी रहे, लेकिन वह अपनी इस आविष्कार को दुनिया के सामने पेश करना चाहते थे, इसलिए थॉमस एडिसन ने बल्ब का फिलामेंट बनाने के लिए दो हजार अलग-अलग सामग्री को आजमाया. वह अपने बल्ब का आविष्कार करने के लिए कई प्रयास कर रहे थे,
और उन्होंने अपने इस आविष्कार को सफल बनाने के लिए हजारों बार फेल हुए लेकिन इसी बीच एक पत्रकार ने थॉमस अल्वा एडिशन से एक सवाल किया उसने पूछा कि आपको हजारों बार फेल होने के बाद की सफलता पर आपको कैसा लग रहा है, इस सवाल पर एडिशन ने बहुत ही अच्छा जवाब देते हुए कहा कि मैं हजार बार फेल नहीं हुआ हूं बल्कि मैंने सफलतापूर्वक हजार ऐसे तरीके ढूंढ लिए हैं जो काम नहीं आएंगे.

आज इस आर्टिकल में हमने आपको बल्ब का आविष्कार किसने किया इसके बारे में जानकारी दी है और इसको लेकर अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमे कमेंट करे.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close