Hindi TutorialsTricks

बिजली मीटर में यूनिट कैसे चेक करे?

पहले घरों में एनालॉग मीटर का इस्तेमाल किया जाता था जिससे हमें यूनिट रीडिंग चेक करने में आसानी होती थी. आज उन मीटरों की जगह डिजिटल मीटर ने ले ली है और इसके साथ ही हमारी परेशानी शुरू होती है की बिजली मीटर में यूनिट कैसे चेक करे? लेकिन अगर हम एक बार गौर करे तो एनालॉग मीटर और डिजिटल मीटर में फर्क सिर्फ electric meter reading की आउटपुट दिखाने का है.

electric meter reading

डिजिटल मीटर में कुछ एक्स्ट्रा आप्शन दिए गए जिसकी मदद से आप कई चीजे चेक कर सकते है लेकिन हमें उनकी जानकारी ना होने की वजह से हम उनको ignore कर देते है. तो चलिए समय बर्बाद ना करते हुए आपको मीटर में रीडिंग चेक करने का तरीका बताते है.

बिजली मीटर क्या होता है? – What is Electricity Meter in Hindi?

यह एक तरह का डिजिटल मीटर है जो आजकल घरों, ऑफिस और इंडस्ट्री में बिजली की खपत मापने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. आजकल Smart Electricity Meter आ गए है जिससे हम आसानी से कई तरह की चीजें जैसे हमारा Monthly Electricity Usage , electric meter reading MD,  Ampere, Voltage और Power Factor जैसी चीजों को नाप सकते है.

आजकल के मीटर से आपको अपने मोबाइल पर Bill और Usage को चेक कर सकते है. इसके अलावा आप आपने  electricity bill अपने मोबाइल से Pay भी कर सकते है.

बिजली मीटर के प्रकार – Types of Electricity Meter in Hindi

बिजली के मीटर भी कई तरह के होते है जैसे इलेक्ट्रोमेकानिकल विद्युत मीटर, इलेक्ट्रॉनिक्स डिजिटल मीटर और स्मार्ट एनर्जी मीटर.

Electromechanical Electricity Meter

Electromechanical Electricity Meter Hindi

यह मीटर कुछ वर्षों पहले काफी इस्तेमाल होते है जिसमें एक गैर चुम्बकीय धातु डिस्क लगी होती थी. जब भी Electricity का इस्तेमाल किया जाता है तो यह डिस्क घुमती है. जब बिजली की खपत ज्यादा होती है तो यह डिस्क तेजी से घुमती है और जब बिजली की खपत कम होती है तो यह डिस्क धीरे धीरे घुमती है. इसी के आधार पर मीटर में बिजली की खपत नोट होती है. लेकिन अब इस मीटर को इस्तेमाल करना बंद कर दिया गया है.

Electronics Digital Meter

Electronics Digital Meter

यह आजकल इस्तेमाल होने वाला आम electricity meter है जिस पर LED या LCD डिस्प्ले लगी होती है जिस पर बिजली की खपत की रीडिंग दिखाई जाती है. इसमें एक CT लग जाती है जिसके आउटपुट को डिजिटल तरीके से convert करके register में save किया जाता है और डिस्प्ले पर शो किया जाता है.

Smart Energy Meter

Smart Energy Meter Hindi

यह एक नया electric usage को track करने का मीटर है जिसमें internet की सुविधा से electric usage को आसानी से user के द्वारा track किया जा सकता है. इस मीटर का सबसे बड़ा फायदा यह है की इसमें बिजली अधिकारी को घर घर नहीं जाना पड़ता है.

Read This -> बिजली मीटर में MD क्या होता है?

बिजली मीटर में यूनिट कैसे चेक करे? – How to Check Units in Electricity Meter?

Electric Meter रीडिंग लेने के लिए आपको कुछ चीजें ध्यान में रखनी होगी.

  1. KWh – यह हमारी Main Unit होती है.
  2. KVA – यह apparent power unit होता है.
  3. KVAH – यह apparent energy होती है.
  4. V – यह उस समय की voltage सप्लाई को दर्शाता है.
  5. A – इसके द्वारा हमारे घर में इस्तेमाल होने वाले सभी इलेक्ट्रिक चीजों के द्वारा लिए जाने वाले करंट को दर्शाता है.
  6. MD – इसके द्वारा हम यह जान पाते है की हमारे द्वारा maximum कितनी यूनिट एक घंटे में इस्तेमाल हुई है. यह हर बार एक maximum यूनिट रखता है. कई मीटर में यह हर महीने में automatic reset हो जाता है.
  7. PF – यह AC के real power और apparent power का ratio होता है.

अब हम meter reading चेक करने के लिए रेडी है. अब हम अपने meter से ज्यादा से ज्यादा इनफार्मेशन कलेक्ट कर सकते है. इसकी मदद से आप किसी भी कंपनी के डिजिटल मीटर की रीडिंग को चेक कर सकते है.

  1. अगर आपके मीटर Push Button लगा हुआ है तो आप उस बटन को press करे और आप display के last में दिए गए KWH को देखना है.
  2. इसमें आपको ध्यान रखना है की KWH के साथ में कोई और word ना हो.
  3. अगर आपके मीटर में Push बटन नहीं है तो आप तब तक wait करे जब तक आपके मीटर में KWH reading ना आए.
  4. इस तरह से आप दोनों तरह के मीटर में बिजली की यूनिट चेक कर सकते है.

बिजली मीटर रीडिंग कम कैसे करें?

कई घरों में बिजली का बिल बहुत ज्यादा आता है और यहाँ पर हम आपको कुछ टिप्स बताएँगे जिसकी मदद से आप अपने मीटर रीडिंग कम कर सकते है.

  • सभी तरह के चार्जर को इस्तेमाल ना होने के समय निकाल दें.
  • अगर आपके घर पूरा दिन light रहती है तो आप Inverter का इस्तेमाल ना करें.
  • Inverter की बैटरी को हर तीसरे महीने चेक करवाएं.
  • बल्ब की जगह पर आप LED बल्ब का इस्तेमाल करें.
  • बिजली बचाने के लिए inverter battery की charging के लिए Solar Panel का इस्तेमाल करें.
  • इलेक्ट्रिक आयरन और गीजर वही इस्तेमाल करें जो एक उचित तापमान पर जाने के बाद में आटोमेटिक बंद हो जाए.
  • सीढियों पर Motion Lights का इस्तेमाल करें.
  • कम जरूरत वाली जगहों में आप Solar Charge Motion Sensor Light का इस्तेमाल करें.
  • फ्रिज के दरवाजे का रबर tight होना चाहिए और दरवाजे को ज्यादा देर तक खुला नहीं रखना चाहिए.
  • ज्यादा से ज्यादा Solar Appliance का इस्तेमाल करें.
  • जरूरत ना होने पर अपने घर के सभी बल्बों को बंद कर दें.
  • कपड़े प्रेस करने के लिए Automatic प्रेस का इस्तेमाल करें.

Final Words

यहाँ पर हमने आपको electric meter reading चेक करने के बारे में बताया है. अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप नीचे कमेंट करके बताये.

Related Articles

7 Comments

  1. Meter me MD KW (Maximum Demand) .16 se bdkar 2.26 ho gyi he ye kya he
    or Lod phle se km kr diya he, tb ye MD KW 2.26 kb tk Show krega,

    1. iska matalab maximum demand/peak load hota hai. yah aapke dawara ek time mein use ki gayi maximum power ko show karta hai. iska show hone ka cycle usually ek mahine ka hota hai. suppose karo ki aapke ghar ka total load 2kw peak par jaata hai (kisi bhi samay) to aapka MD 2kw rahega ek time period(depend upon meter setting/config) ke liye. uske baad mein yah automatic reset ho jaata hai aur dobara se aapke peak load ko capture karta rahta hai.

      example….
      aapke pass 3 electronics item hai jo ki 700w, 1000w, 1500w ke hai.

      agar aap inme se 2 item regular ek sath use karte hai to to aapka MD 700+1000w = 1700w/1000 = 1.7 KW rahega.
      agar aap mahine mein ek baar bhi tinon ko ek sath use karte hai to aapka MD 700+1000+1500 = 3200w/1000 = 3.2 KW chala jaayega.

      Asha karta hun aapko samaj aa gya hoga.

  2. sir solar net meter ke bare me bataye usme to bahot sare function ate he samaj me hi nahi ataa he kon solar se i he ko grid se i he

  3. sir solar net meter ke bare me bataye usme to bahot sare function ate he samaj me hi nahi ataa he kon solar se i he ko grid se i he

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close