Ayurvedic NuskheGharelu UpayHealthHealth Tips

गाजर द्वारा रोग उपचार

सर्दियों के शुरू होते ही गाजर का चलन शुरू हो जाता है. गाजर खाने में मीठी होती है लेकिन तासीर में ग्राम होती है. यह आपके स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी होती है. इससे आप सब्जी, हलवा, पाक, जूस और शरबत बना कर भी इस्तेमाल कर सकते है. आज इस आर्टिकल में हम आपको गाजर द्वारा रोगों के उपचार के बारे में बताने जा रहे हैं.

गाजर का सेवन कैसे करें?

गाजर का सेवन इसे कच्ची खाकर, इसकी सब्जी बनाकर, इसका जूस निकालकर, इसका शर्बत बनाकर, इसका हलवा बनाकर, आप सब लोग जिस तरह से भी इसका सेवन करना चाहिए अपनी इच्छाअनुसार कर सकते हैं.

गाजर का रस कैसे निकाले?

आजकल रस निकालने के लिए अनेक प्रकार के मशीनें आ चुके हैं परंतु अच्छा और उपयोगी रस्ता वही है जो गाजरों को पत्थर पर पीस कर निकाला जाता है, जिसे भारत में सिलबट्टा भी कहते हैं.

इसका दूसरा तरीका है गाजर को कद्दूकस करके उन्हें एक साफ कपड़े में डालकर जोर से दबाते हुए उनका किसी बर्तन में डाले. यह सब इसलिए बताया जा रहा है कि आज आम आदमी जिसके पास रस निकालने की मशीन नहीं है वह भी गाजर का लाभ घर बैठे उठा सके.

गाजर द्वारा रोग उपचार

गाजर द्वारा रोग उपचार

गाजर नहीं इसे खून की बोतल कहे तो सही नाम यही रहेगा क्योंकि गाजर खाने से इतना खून बन सकता है, कि उससे हम खून की बोतल भर सकते हैं, इसलिए गाजर को कुछ समझते विद्वानों ने खून की बोतल का नाम भी दिया है.

गाजर के लाभ ही लाभ

गांववासी जो गाजर लगाते हैं तथा अन्य लोगों को बताना जरूरी समझती हूं क्योंकि वह लोग रोग लग जाने पर बड़े-बड़े डॉक्टरों के पास जाने का एहसास भी नहीं कर सकते नहीं है यदि वह किसी अच्छे बड़े डॉक्टर के पास जाना भी चाहे तो उनकी बड़ी फीस देखकर उनके सांस उखड़ जाएगी ऐसे लोगों के लिए तो फल-फूल सब्जियां दालें सबसे बड़ा डॉक्टर का काम कर देती है.

उनके लिए-

गाजर का रस तथा गाजर का सेवन सबसे बड़ा डॉक्टर है. इसको लगातार पीते हैं उनके शरीर से दूषित तथा विषैले पदार्थ अपने आप बाहर निकल जाते हैं जिसका परिणाम यह निकलता है कि मानव शरीर के अंदर जन्म लेने वाले अनेक असाध्य रोग भी अंदर ही अंदर नष्ट हो जाते हैं जिनमें एक बड़ा रोग कैंसर भी है. इसका उपचार गाजर के रस सही हो सकता है. गाजर से जिन लोगों के शरीर में खून की कमी है वह दूर हो जाती है. गाजर पुराने खून को साफ करने के साथ-साथ नए खून को भी भी जन्म देती है. आजकल जिन विटामिन की डॉक्टर बड़ी-बड़ी बातें करते हैं, जिनके लिए टीके लगते हैं, गोलियां दी जाती है विजिटर को बता देते हैं कि विटामिन ए सर्वाधिक गाजर में पाए जाते हैं इसके अतिरिक्त विटामिन B, C, D, E, G भी काफी मात्रा में गाजर के अंदर होते हैं.

अब आप इसका इस्तेमाल करें कि गाजर आपके स्वास्थ्य के लिए कितनी उपयोगी है, इससे सस्ता रोग उपचार विश्व के किसी कोने में आपको मिलेगा? सच कहें तो यह कि गाजर से बड़ा डॉक्टर इस संसार में आपको कहां मिलेगा जो आप लाखों रुपए खर्च करके नहीं करवा सकते उसे केवल 5 और 10 रूपये की गाजरों से किया जा सकता है.

यह असंभव नहीं है परंतु फिर भी आपको यह बात पूरे दावे के साथ कह सकता हूं कि यह संभव है ₹5 की गाजर हजारों रुपए की दवाइयों से अच्छी होती है क्योंकि इन सब रोगों के लिए लाभदायक है.

स्मरण शक्ति बढाने के लिए

सुबह के समय सात बादामों की गिरिया निकालकर 125 ग्राम गाजर के रस के साथ सेवन करने से दिमाग शक्तिशाली होता है जिससे खोई हुई शक्ति वापस आ जाती है.

आंखों के लिए

जिन लोगों की आंखें समय से पूर्व कमजोर हो चली हो उन्हें प्रतिदिन सुबह उठकर आधा गिलास गाजर का जूस पीना चाहिए. एक मास के सेवन से चश्मा भी उतर सकता है.

पेट रोग

गाजर का रस प्रतिदिन एक गिलास पीने से पेट के सब बीमारियां दूर हो जाती है.

बच्चों के रोग

छोटी आयु वाले बच्चों को जब रोगों के कारण दुर्बलता जाती है तो उनके लिए गाजर का रस बहुत उपयोगी माना जाता है. एक दो छोटे चम्मच बच्चों को सुबह-शाम पानी के साथ देने से बच्चा रोग मुक्त हो जाता है. जो बच्चे मां का दूध पीते हैं तो उन माताओं को भी गाजर का जूस पीना चाहिए.

जिगर के खराबी

जिन लोगों का जिगर खराब है उन्हें भूख नहीं लगती है, उन्हें दिन में 3-4 बार दो-दो गाजर खाने चाहिए. एक मास के गाजर सेवन से ही आपका लीवर ठीक हो जाएगा.

दिल की धड़कन का तेज होना (दिल का रोग)

जब इंसान का खून अधिक गाढा हो जाता है तो दिल की नाडी तक पहुंचाने में असफल रहता है ऐसे में आपका दिल दर्द करता है और यह परिणाम यह है कि दिल का दौरा जो मृत्यु का कारण भी बन सकता है यदि आप गाजर का सेवन करते रहेंगे तो इससे खून पतला होकर दिल तक पहुंचना शुरू हो जाएगा. जिससे दिल की नाडियाँ ठीक ढंग से काम करती हुई उसे दिल तक पहुंचाने लगेगी, और दिल पूरी तरह से काम करने लगेगा.

कृमि

गाजर का रस 100 ग्राम सुबह निहार मुंह 10 दिन तक पीने से कृमि रोग से मुक्त मिलती है.

चर्म रोग

गाजर का रस मानव खून को शुद्ध करता है क्योंकि इसमें कीटाणु नाशक और संक्रमण को दूर करने के तत्व रहते हैं. केवल खून की गंदगी से ही चर्म रोग लगते हैं यदि आप 100 ग्राम गाजर का रस प्रतिदिन सेवन करें तो आपका खून साफ हो जाएगा.

अंतड़ियों की सूजन

अंतड़ियों का सूज जाना अनेक रोगों को जन्म देता है, इसलिए इस बीमारी को साधारण न समझकर इसका उपचार गंभीरता से करें. इसके लिए- गाजर का रस 200 ग्राम, चुकंदर का रस 160 ग्राम, खीरे का रस 170 ग्राम इन सब को एक साथ मिलाकर थोड़ी कूजा मिश्री मिला ले और एक मास तक सुबह उठकर पीने से अंतड़ियो की सूजन ठीक हो जाएगी. इसके साथ-साथ आपकी पाचन शक्ति भी बढ़ेगी. जिन लोगों को भूख कम लगती है उनको खूब भूख लगने लगेगी.

पथरी

बढ़ती पथरी रोग ऑपरेशन द्वारा ठीक हो यह कोई जरूरी नहीं है. इसके लिए हम गाजर द्वारा भी सफल उपचार कर सकते हैं. उपचार इस प्रकार से है- गाजर का रस 100 ग्राम खीरे का रस 2 ग्राम चुकंदर का रस सौ ग्राम कूजा मिश्री 20 ग्राम इन सबको मिलाकर पथरी रोगी को दिन में 4 बार पिला दे तो रोग से लाभ होगा. गाजर के बीजों को पीसकर उन्हें छलनी या बारीक कपड़े से छान लें और फिर हर सुबह एक चम्मच सादे पानी के साथ सेवन करें एक मास में ही पथरी रोग से मुक्ति मिल जाएगी शीघ्र उपचार के लिए इसे दिन में दो बार भी ले सकते हैं.

गुर्दों की सूजन

जिन लोगों के गुर्दों पर सूजन आ जाए उन्हें गाजर के बीज का चूर्ण एक चम्मच दिन में दो बार पानी के साथ सेवन करना चाहिए कुछ ही दिनों में सूजन ठीक हो जाएगी.

हृदय का रोग

जो लोग हृदय की पीड़ा से दुखी है वे 1 किलो गाजर को उबाल ले, जब सारा पानी सूख जाए तो उन्हें नीचे उतार कर उनका रस निकाल लें इस रस में शहद मिलाकर प्रतिदिन चार बार सौ ग्राम पीने से दिल का दर्द ठीक हो जाता है.

गठिया रोग तथा जोड़ों का दर्द

गाजर का रस ककड़ी का रस चुकंदर का रस इन तीनों को समान मात्रा में मिलाकर आधा गिलास तैयार करके उसमें एक चम्मच शहद या चीनी मिलाकर दिन में तीन-चार बार सेवन करने से हर प्रकार के अंदर का दर्द ठीक हो जाएगा.

रक्तचाप

गाजर का रस हर रोज सुबह निहार मुंह आधा गिलास पीने से रक्तचाप रोग ठीक हो जाएगा.

Final Word

आज इस आर्टिकल में हमने आपको health benefits of carrot gajar, गाजर खाने के फायदे एवं औषधीय गुण, benefits of juice, गाजर के फायदे, उपयोग और नुकसान, गाजर के फायदे और नुकसान के बारे में बताया है. अगर आपको इससे जुडी कोई अन्य जानकारी चाहिए तो आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बताएं

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close